• amulya panda

नीलम है बड़े काम की चीज, जानिए धारण करने के लाभ

नीलम है बड़े काम की चीज, जानिए धारण करने के लाभ

लखनऊ।अनुशासन प्रिय और गरीबों को न्याय दिलाने वाले

देवता शनि है। नीलम शनि का रत्न है। ऐसी मान्यता है कि नीलम अपना प्रभाव अति शीघ्र दिखाता है। चाहे शुभ प्रभाव हो या फिर अशुभ, जिस कारण लोग नीलम पहनने से पहले उसका परीक्षण करते है। अंगूठे को समझें साधारण, यह खोल देगा आपके सारे राज

नीलम किसे पहना चाहिए जिनकी मकर, कुम्भ, वृषव तुला राशि होवेलोग नीलम धारण करें।सितम्बर जन्में लोगों को नीलम पहनने से लाभ मिलताहै।

भाग्य के सितारे चमकने लगेंगे वृषव तुला लग्न वाले जातक यदि नीलम धारण करेंगे तो उनके भाग्य केसितारे चमकने लगेंगे।मकर व कुम्भ लग्न वालों के लिए नीलम प्रगति के द्वार खोलता है।नीलम धारण करने से मन में गहरे विचार आते है और मन शान्त रहता है।जिन लोगों को हर बात में जल्दबाजी रहती है एंवधैर्य की कमी बनी रहती है, उन्हें नीलम पहनने सेधैर्य आता है।नीलम पहनने सेवाणी में मिठास, गम्भीरता, बौद्धिकता, तार्किकता एंव संस्कारों में वृद्धि होतीहै।स्त्रीया पुरूष जो डिप्रेशन के शिकार है, उन्हें नीलम अवश्य पहनना चाहिए।नीलम पहनने से व्यक्ति तनाव मुक्त होकर जीवन व्यतीत करता है।

रोगों में नीलम पहनने का लाभ नीलम का प्रभाव स्नायुतन्त्र पर रहता है।यदि इससे सम्बन्धित कोई भी दिक्कत है तो नीलम धारण करने से लाभ मिलेगा।अगर आप लकवा, हड्डियों में दर्द, दॉत रोग एंव दमा रोग से पीडि़त है तो नीलम धारण करने से अत्यन्त लाभ होगा।जिन लोगों को कम रदर्द, सिर दर्द व कैंसर आदि रोग है तो उन्हें नीलम पहनने से फायदा हो ताहै।जिनलोगों को रातमें घबराहट हो ती है एंव भय बना रहता है, उन लोगों को नीलम पहनने से अवश्य लाभ मिलता है।

सिंह लग्न, मेष लग्न, वृश्चिक लग्न है जिनकी सिंह लग्न, मेष लग्न, वृश्चिक लग्न है, उन जातकों को नीलम नहीं पहनना चाहिए अन्यथा नुकसान होता है।नीलम अगर पाप भावों में है तो 6, 8, 12 तो नीलम धारण करने अचानक समस्यायें उत्पन्न होती है।शनि के मूलतःशत्रु ग्रह सूर्य और मंगल है, इसलिए नीलम को माणिक्यव मूॅगा के साथ कदापि धारण नहीं करना चाहिए।

11 views

©2020 by maakalivastujyotish.