• amulya panda

कन्या राशिफल 2020




कन्या राशिफल 2020


कन्या राशिफल 2020 के अनुसार यह वर्ष आपके लिये कार्यक्षेत्र, मान-सम्मान, फाइनेंस आदि क्षेत्रों में काफी अच्छा

रहने के आसार हैं। वर्ष की शुरुआत में राशि स्वामी बुध आपकी राशि से चौथे स्थान में गुरु, केतु, सूर्य, और शनि के साथ विचरण कर रहे हैं। सूर्य के साथ बैठने से बुधादित्य योग भी बन रहा है जो कि आपके लिये सफलता के योग बना रहे हैं। कर्म के धनी तो आप इस वर्ष रहेंगें ही कन्या वर्ष कुंडली 2020 आपको भाग्य से भी बलवान बना रही है। इसका तात्पर्य यह है कि इस वर्ष जितनी अधिक मेहनत आप करेंगें उतना ही किस्मत भी आपका साथ देगी जिससे आपको अपने जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में शुभ फल प्राप्त होंगे। वार्षिक राशिफल 2020 आपके लिये इस मायने भी खास है कि एक तो इस वर्ष का आरंभ बुधवार के दिन हो रहा है दूसरा वर्ष आरंभ के समय वर्ष 2020 की लग्न कुंडली भी कन्या राशि की बन रही है। इस लिहाज से बुध जो कि आपकी राशि के स्वामी भी हैं वही इस वर्ष के राजा भी रहेंगें जिससे इस वर्ष आप स्वयं को बहुत सौभाग्यशाली समझ सकते हैं।

कन्या राशि 2020 की बात करें तो आपके लिये कर्मक्षेत्र के मालिक भी बुध हैं और बुध कर्मभाव को सप्तम दृष्टि से देख भी रहे हैं। बुध का बृहस्पति के साथ होना यह दर्शाता है कि इस वर्ष करियर में आपको अच्छी सफलताएं मिल सकती हैं। नई-नई योजनाएं आपके जहन में आ सकती हैं। बुध व गुरु के साथ ही सूर्य भी जो कि आपके आत्मबल को भी मजबूत रहेगा। जिससे भविष्य में आपको वर्ष भर इसका लाभ मिलता रहेगा। भाग्य के स्वामी शुक्र भी आपके भाग्य को मजबूत कर रहे हैं। तथा पंचम स्थान का स्वामी शनि केंद्र में विराजमान है जो कि आपकी शिक्षा व संतान के लिये शुभ रहने वाला है।


बृहस्पति का केंद्र में स्वराशिगत होना आपके लिये हंस महायोग बना रहा है जिसे बहुत सौभाग्यशाली माना जाता है।

इस योग के होने से इस वर्ष आपको अपने सुख स्थान से, गृह स्थान से, माता के स्थान से अच्छा सुख प्राप्त होगा। जो

जातक लंबे समय से घर खरीदने का विचार बना रहे हैं उनके प्रयास इस वर्ष सिरे चढ़ सकते हैं उनका अपने घर का

सपना पूरा हो सकता है। बृहस्पति आपके लिये सप्तम भाव के स्वामी भी हैं जो इंगित करता है कि घरेलू लाइफ में भी

आपको अपने लाइफ पार्टनर से अविवाहित जातकों को रिलेशनशिप में अपने पार्टनर से काफी अच्छा सहयोग, अच्छा समर्थन मिलेगा। अविवाहित जातिकाओं के लिये विवाह के योग भी बन रहे हैं। अच्छा जीवन साथी आपको इस समय मिल सकता है।


देश भर के जाने-माने ज्योतिषाचार्यों से भी आप इस बारे में परामर्श ले सकते हैं।


राहु का कर्मक्षेत्र में होना थोड़ा बहुत काम के मामले में अड़चनें भी लेकर आ सकता है। लेकिन अंतत: आपके लिये

कार्यक्षेत्र में उन्नति के योग बन सकते हैं। पराक्रम के स्वामी मंगल पराक्रम में विद्यमान हैं। पराक्रम में वृद्धि के योग

बन रहे हैं। छोटे भाई-बहनों को भी आप अपना प्यार दे पाएंगें।


देश भर के जाने-माने ज्योतिषाचार्यों से भी आप इस बारे में परामर्श ले सकते हैं।

24 जनवरी को शनि का परिवर्तन होगा, जिसके पश्चात आपको कोई शुभ समाचार मिल सकता है। दरअसल इसी समय पिछले ढ़ाई साल से आप पर चल रही शनि की ढ़ैय्या भी समाप्त हो जाएगी। आपकी राशि से पंचम स्थान में शनि के आने पर मान-सम्मान बढ़ेगा, उच्च शिक्षा प्राप्त कर सकते हैं, कानून की पढ़ाई करना चाहते हैं तो सफलता मिलेगी, शोध कार्यों की ओर भी आप अग्रसर हो सकते हैं।


30 मार्च को गुरु मकर राशि में प्रवेश कर रहे हैं जहां पर पहले से ही मकर के स्वामी शनि अपनी ही राशि में विद्यमान

हैं। गुरु और शनि की युति से नीचभंग राजयोग बना रहे हैं जिसके होने से शिक्षा व संतान प्राप्ति के योग भी आपके लिये बनने शुरु होंगे। साथ ही गुरु की सप्तम दृष्टि अपनी उच्च राशि पर पड़ना तथा नवम दृष्टि आपकी राशि पर पड़ना आपको अच्छी एनर्जी देगा साथ ही स्वास्थ्य भी आपका अनुकूल रहेगा।

11 मई को शनि वक्री हो जाएंगे जिसके पश्चात जो दंपति बेबी प्लान कर रहे हैं उन्हें ध्यान रखने की आवश्यकता रहेगी। विद्यार्थियों को इस समय अपनी पढ़ाई पर ध्यान देने की आवश्यकता रहेगी। जो प्रोफेशनल्स अपने फिल्ड में दक्ष तो हैं लेकिन किसी प्रकार की शैक्षणिक डिग्री उनके पास नहीं है तो वे भी संबंधित प्रोफेशनल कोर्स में औपचारिक शिक्षा शुरु कर सकते हैं। जब तक शनि वक्री रहेंगें।


वक्र शनि का प्रभाव आपके दांपत्य जीवन पर इस समय थोड़ा नेगेटिव रह सकता है क्योंकि यहां शनि अपनी तीसरी

दृष्टि से देख रहे होंगे। जीवन साथी की हेल्थ को लेकर भी आप थोड़ा इस समय टेंस रह सकते हैं।

14 मई को गुरु भी वक्री हो जाएंगें वैसे तो गुरु का वक्र होना शुभ माना गया है लेकिन इस समय पर गुरु का प्रभाव

पूरी कुंडली में फैल जाता है जिससे वह फल तो अच्छे देता है लेकिन थोड़े समय के लिये देता है।

30 जून को गुरु धनु राशि में चले जाएंगें। घर परिवार को लेकर जो चीजें अधूरी रह गई थी वह इस समय पूरी हो सकती हैं। यही वो समय है जब आप प्रोपर्टी संबंधी कोई डील फाइनल कर सकते हैं।


13 सितबंर को गुरु के मार्गी होते ही आपकी लाइफ की गाड़ी जो ट्रैक से उतरती हुई नज़र आ रही थी एक बार फिर से वह ट्रैक पर आ जाएगी। 23 सितंबर को राहु-केतु का परिवर्तन हो जाएगा। जहां वे कर्मभाव से आपके भाग्य स्थान में आएंगें। भाग्य स्थान का राहु व्यक्ति को धार्मिकता से विमुख करता और धैर्य में कमी भी लेकर आता है। इस समय आपको थोड़ा संभल कर रहने की आवश्यकता रहेगी। विवेक से काम लें। भावावेश में आकर कोई भी निर्णय न लें। जल्दबाजी तो बिल्कुल भी न करें। यदि आप ऐसा करने में सफल रहे तो भाग्य स्थान में राहु आपके लिये कार्योन्नति के योग भी बना रहे हैं।


वहीं केतु का परिवर्तन आपकी राशि से तीसरे स्थान में हो रहा है जो कि पराक्रम का स्थान माना जाता है। इस समय में आपको अपने छोटे भाई-बहनों के साथ मतभेदों से बचना होगा। यात्रा के दौरान भी थोड़ा सावधानी रखें। कुल मिलाकर इस समय आपको सतर्क बने रहने की आवश्यकता रहेगी अन्यथा सावधानी हटी दुर्घटना घटी वाली कहावत आपके लिये सार्थक हो सकती है। आपके पराक्रम में वृद्धि वाला समय भी रहेगा। क्योंकि केतु को अक्सर मंगल जैसा ही फलदायी माना जाता है और केतु मंगल की ही राशि में होंगे। छोटी-छोटी यात्राओं के योग भी आपके लिये बनेंगें। कामकाज संबंधी यात्राओं के सफल रहने की उम्मीद कर सकते हैं।

29 सितंबर को जैसे ही शनि मार्गी होंगे आपको भी राहत मिलनी शुरु हो जाएगी। जो भी कार्य बिगड़ रहे थे वे फिर से

पटरी पर लौट आएंगें। 20 नवंबर को गुरु पुन: मकर राशि में आएगें। जिसके पश्चात आपके लिये यह कई तरह से लाभकारी रह सकते हैं। कुल मिलाकर हिंदी में कन्या राशिफल 2020 आपके लिये संकेत कर रहा है कि इस साल आप काफी कुछ हासिल करने वाले हैं।




कन्या प्रेम राशिफल 2020


कन्या प्रेम राशिफल 2020 के अनुसार आपकी रोमांटिक लाइफ काफी अच्छी रहने वाली है। आपकी राशि से पंचम भाव जिसे प्रेम का स्थान माना जाता है, के स्वामी शनि हैं जो कि सुख भाव विराजमान हैं। वैवाहिक जीवन को सप्तम भाव से देखा जाता है इस भाव के स्वामी बृहस्पति हैं जो शनि के साथ ही चौथे भाव में मौजूद हैं। प्रेम के कारक ग्रह शुक्र पंचम भाव में विराजमान हैं। कुल मिलाकर ग्रहों का यह संयोग एक सुखी प्रेम जीवन की ओर ईशारा कर रहा है। बृहस्पति के प्रभाव से जो जातक अभी तक किसी के साथ रिलेशनशिप में नहीं हैं उन्हें 2020 में एक अच्छा पार्टनर मिल सकता है। जो जातक पहले से किसी रिलेशनशिप में हैं वे अपने भविष्य के बारे में सोच सकते हैं।

शुक्र प्रेम के कारक तो हैं साथ ही वे भाग्य स्थान के मालिक होकर बी पंचम भाव में बैठे हैं। जो आपके लिये काफी शुभ फलदायी रहेंगें। जो जातक अपने प्यार का इजहार करना चाहते हैं उनके लिये शुक्र सकारात्मक जवाब मिलने के संकेत कर रहे हैं। पंचम भाव के शनि वर्ष की शुरुआत में केंद्र में बैठे हैं जो कि विवाहित जातकों को संतान संबंधी सुख मिलने की संभावना जता रहे हैं। बृहस्पति भी केंद्र में ही विराजमान हैं जो कि सप्तम भाव के स्वामी भी हैं। सुख भाव के बृहस्पति आपको रिलेशनशिप में पार्टनर, लाइफ पार्टनर का सुख व सहयोग मिलने की उम्मीद जता रहे हैं। अविवाहित जातिकाओं के लिये विशेष रूप से विवाह के योग बन रहे हैं। आपको इस समय गुरु की कृपा से अच्छा जीवन साथी मिल सकता है।


देश भर के जाने-माने ज्योतिषाचार्यों से भी आप इस बारे में परामर्श ले सकते हैं।


वर्ष के शुरुआती माह के उतर्राध में शनि पंचम भाव में स्वराशिगत हो जाएंगें जो कि रोमांटिक लाइफ के लिये काफी

अच्छे कहे जा सकते हैं। इसी समय आपको शनि की ढ़ैय्या से भी मुक्ति मिल जाएगी। पिछले कुछ दिनों से रोमांटिक

लाइफ में किसी तरह की परेशानियां चल रही थी तो उनका समाधान इस समय निकल आने की उम्मीद कर सकते हैं।मार्च के अंत में गुरु भी शनि के साथ आ जाएंगें जो कि विवाहित जातकों के लिये संतान प्राप्ति के योग भी बना रहे हैं।मई तक का समय आपके लिये काफी अच्छा रहने के आसार हैं। लेकिन मई के दूसरे सप्ताह के लगभग मध्य में शनि की चाल बदल जाएगी वक्री शनि के प्रभाव से जो विवाहित जातक संतान प्राप्ति की कामना कर रहे हैं उन्हें अतिरिक्त सावधानी रखने की आवश्यकता रहेगी। आपके दांपत्य सुख को भी इस समय शनि की तीसरी दृष्टि प्रभावित कर सकती है। अपने पार्टनर की हेल्थ को लेकर आप थोड़ा परेशान रह सकते हैं। शनि के साथ ही गुरु का वक्र होना भी आपको इस समय में सावधान रहने के संकेत कर रहा है।

सितंबर तक हालातों में उतार-चढ़ाव रहने के आसार हैं। सितंबर में गुरु व शनि के मार्गी होने के पश्चात हालात बेहतर होने लगेंगे। वर्षांत के नजदीक नवंबर माह के उतरार्ध में गुरु पुन: पंचम भाव में शनि के साथ आ जाएंगें जिससे आपकी रोमांटिक लाइफ पुन: पटरी पर लौट आने की उम्मीद कर सकते हैं।

कुल मिलाकर हिंदी में कन्या प्रेम राशिफल 2020 आपके लिये संकेत कर रहा है कि इस साल आप एक अच्छी रोमांटिक लाइफ व्यतीत करेंगें।


2020 में प्रेम करियर स्वास्थ्य एवं आर्थिक समस्याओं के समाधान के लिये एस्ट्रोयोगी पर प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें।




कन्या करियर राशिफल2020


कन्या करियर राशिफल 2020 के अनुसार करियर के मामले में यह वर्ष उन्नति वाला रहने की उम्मीद की जा सकती है। नौकरीपेशा जातकों के लिये पदोन्नति के योग इस साल बनेंगें। व्यवसायी जातकों के लिये व्यापार के नये अवसर उभर कर आयेंगें। नई योजनाओं पर आप इस वर्ष काम कर सकते हैं। जो जातक अपना स्वयं का बिजनेस शुरु करना चाहते हैं तो स्टार्ट अप के लिये भी यह साल काफी लाभकारी रहने की उम्मीद कर सकते हैं। हां पार्टनरशिप में कोई काम शुरु करने से आपको इस वर्ष बचकर रहने की सलाह एस्ट्रोयोगी दे रहे हैं। वर्ष की शुरुआत भले ही आपके लिये थोड़ी धीमी रहे लेकिन वर्षांत तक आपको सफलता मिलने के पूरे योग कन्या वर्ष कुंडली 2020 में दिखाई दे रहे हैं।

कन्या करियर राशिफल (Kanya Career Rashifal 2020) के अनुसार यह वर्ष आपके लिये कार्यक्षेत्र में उन्नति के, तरक्की के योग बना रहा है। वर्ष की शुरुआत में राशि स्वामी बुध आपकी राशि से चौथे स्थान में गुरु, केतु, सूर्य, और शनि के साथ विराजमान हैं। सूर्य और बुध की युति से बुधादित्य योग बन रहा है जो कि आपको कर्म का धनी बनाता है।


कन्या वर्ष कुंडली 2020 के अनुसार आपका भाग्य भी इस वर्ष बुलंद रहेगा। इस वर्ष जितनी अधिक मेहनत आप करेंगें उतना ही किस्मत भी आपका साथ देगी जिससे आप अपने करियर में सफलता के नये आयाम छू सकते हैं।

देश भर के जाने-माने ज्योतिषाचार्यों से भी आप इस बारे में परामर्श ले सकते हैं।


कन्या राशि 2020 की बात करें तो आपके लिये करियर के स्वामी बुध हैं जो कर्मभाव को सप्तम दृष्टि से देख भी रहे हैं। वर्षारंभ में बुध व बृहस्पति का साथ इस वर्ष करियर में आपके लिये करियर में अपार सफलता मिलने के योग बना रहा है। नई-नई योजनाएं आपके जहन में जन्म लेंगी। बुध व गुरु के साथ ही सूर्य भी हैं जो आपके आत्मबल को भी मजबूती दे रहे हैं। वहीं भाग्य के स्वामी शुक्र भी आपके भाग्य को मजबूत कर रहे हैं। हालांकि राहु का कर्मक्षेत्र में होना थोड़ा बहुत काम के मामले में अड़चनें भी लेकर आ सकता है। लेकिन अंतत: आपके लिये कार्यक्षेत्र में उन्नति के योग बन सकते हैं। पराक्रम के स्वामी मंगल पराक्रम में विद्यमान हैं। पराक्रम में वृद्धि के योग बन रहे हैं। छोटे भाई-बहनों को भी आप अपना प्यार दे पाएंगें।

24 जनवरी को शनि का परिवर्तन होगा, जिसके पश्चात आपको काफी अच्छे अवसर प्राप्त हो सकते हैं क्योंकि इस

समय आप शनि की ढ़ैय्या से मुक्त हो जाएंगे। विद्यार्थियों के लिये पंचम स्थान के शनि मनपसंद कोर्स में प्रवेश मिलने

के योग बना रहे हैं। साथ ही नौकरीशुदा जातकों के लिये कार्यस्थल पर मान-सम्मान बढ़ने की संभावनाएं जता रहे हैं। एजूकेशन, कानून, रिसर्च आदि क्षेत्रों में विशेष रूप से लाभ मिलने के योग बन रहे हैं।

मार्च में पंचम भाव में शनि व गुरु की युति आपके लिये नीचभंग राजयोग बना रही है जो कि काफी सफलतादायक मानी जा सकती है। लेकिन मई से लेकर जुलाई तक आपको सर्तक रहना पड़ेगा इस दौरान शनि व गुरु के वक्री रहने से आपको परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। सितंबर में आपकी गाड़ी सही से पटरी पर लौटती हुई दिखाई देगी इस समय गुरु व शनि जहां वक्री से मार्गी हो जाएंगे तो वहीं राहु भी आपके कर्म भाव से निकल कर भाग्य स्थान में आ जाएंगें। आपकी मेहनत इस समय रंग लाएगी।


नवंबर में एक बार फिर गुरु और शनि पंचम भाव में साथ होंगे जो कि आपके आपके लिये एक सुखद वर्षांत की कामना कर रहे हैं। कुल मिलाकर कन्या करियर राशिफल 2020 के अनुसार कहा जा सकता है कि आपका करियर इस साल उपलब्धियों भरा रहने वाला है।


2020 में प्रेम करियर स्वास्थ्य एवं आर्थिक समस्याओं के समाधान के लिये एस्ट्रोयोगी पर प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें।





कन्या वित्त राशिफल 2020


कन्या राशि वालों के लिये फाइनेंस राशिफल 2020 के अनुसार कहा जा सकता है कि इस साल आप धन धान्य से

संपन्न रहने वाले हैं। आपकी फाइनेंशियल कंडीशन काफी अच्छी दिखाई दे रही हैं। इसका कारण यह है कि कन्या वर्ष कुंडली 2020 में आपकी राशि से धन भाव के स्वामी जो कि शुक्र हैं वह अपनी मित्र राशि में विराजमान हैं जिन पर मंगल की दृष्टि भी पड़ रही है। शुक्र आपकी राशि से भाग्य के स्वामी भी बनते हैं। कुल मिलाकर यह स्थिति आपके लिये वित्तीय तौर पर काफी लाभकारी संकेत कर रही है। हालांकि आर्थिक लाभ आपको शुरुआत में धीरे-धीरे मिलता हुआ नज़र आयेगा लेकिन वर्षांत तक आप स्वयं को अच्छी स्थिति में देख सकते हैं। आपके लिये इस वर्ष जो सतर्क रहने का विषय है वह है आपके बढ़ते हुए खर्चे बल्कि फिजूल के खर्चे। इस वर्ष आप व्यर्थ की चीज़ों की ओर आकर्षित हो सकते हैं जहां धन खर्च करने से आपको अपना बजट संतुलित बनाए रखने में परेशानी आ सकती है। भाग्य के स्वामी शुक्र की बदौलत आपको पैतृक संपत्ति मिलने के योग भी बन रहे हैं लेकिन यहां भी आपको थोड़ा संघर्ष करना पड़ सकता है।

राशि स्वामी बुध का सुख भाव में सूर्य के साथ बुधादित्य योग बनाना भी आपके लिये सुख-सुविधाओं में बढ़ोतरी के

संकेत कर रहा है।

देश भर के जाने-माने ज्योतिषाचार्यों से भी आप इस बारे में परामर्श ले सकते हैं।


आपकी राशि से लाभ स्थान के स्वामी चंद्रमा बनते हैं जो कि छठे स्थान में बैठे हुए हैं यही कारण है कि शुरुआती समय में आपको लाभ तो मिलेगा लेकिन उसके मिलने की गति थोड़ी धीमी रह सकती है। पैसा भी आपके पास रूक-रूक यानि किस्तों में आयेगा। विशेषकर जिन जातकों ने कहीं उधार के रूप में पैसा दिया है उन्हें अपनी पूंजी एक साथ मिलने में दिक्कत आ सकती है। धन निवेश के बारे में निर्णय भी आपको सोच समझकर लेने होंगे विशेषकर पार्टनरशिप में किसी भी परियोजना में निवेश करने से पहले अच्छे से छान-बीन कर लें। यदि बहुत आवश्यक न हो तो इससे बचा भी जा सकता है।

जनवरी माह के उतर्राध में 24 तारीख को शनि राशि परिवर्तन कर पंचम भाव में स्वराशि में होंगे। इसी के साथ आपको शनि की ढ़ैय्या से भी मुक्ति मिल जाएगी। यह समय आपके लिये आर्थिक तौर पर काफी फायदेमंद रहने वाला है। अतीत में किये गये किसी निवेश से भी इस समय आपको लाभ मिल सकता है। मार्च के अंत में शनि के साथ गुरु भी आ जाएंगे जो कि नीच भंग राजयोग बनाएंगे। इस समय भी आप आर्थिक रूप से काफी मजबूत स्थिति में रह सकते हैं। व्यापार से भी आपको काफी अच्छा लाभ मिलेगा। लेकिन मई में शनि और गुरु के वक्री होने पर आपको किसी भी नये निवेश के लिये आगे बढ़ने में सावधानी रखने की आवश्यकता रहेगी। इस समय आपको नुक्सान भी उठाना पड़ सकता है इसलिये पैसे के मामले में ज्यादा जोखिम उठाने की आवश्यकता नहीं है। 30 जून को गुरु धनु राशि में चले जाएंगें।


प्रोपर्टी संबंधी लेन-देन के लिये यह समय उपयुक्त रहेगा। आप अपनी डील पक्की कर सकते हैं। सितंबर से पुन: आप फाइनेंशियली काफी अच्छी स्थिति में खुद को देख सकते हैं क्योंकि इसी महीने के अंत तक गुरु और शनि मार्गी हो चुके होंगे। राहु भी कर्म भाव से गोचर कर भाग्य स्थान में तो केतु पराक्रम। इस समय ओवर कॉन्फिडेंस से जरा बचकर रहने की आवश्यकता रहेगी। निवेश के मामले में भी जल्दबाजी न करें। शॉर्ट कट से पैसा कमाने की सोच रहें हैं तो आप गलत सोच रहे हैं इससे आपके पास जो है वह भी चले जाने की संभावनाएं दिखाई दे रही हैं।

कुल मिलाकर कन्या वित्त राशिफल 2020 आपके लिये संकेत तो अच्छे कर रहा है बशर्ते आप थोड़ी समझदारी दिखाएं।

2020 में प्रेम करियर स्वास्थ्य एवं आर्थिक समस्याओं के समाधान के लिये एस्ट्रोयोगी पर प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें।





कन्या पारिवारिक राशिफल 2020


कन्या पारिवारिक राशिफल 2020 आपके लिये नव वर्ष में एक सुखी पारिवारिक जीवन की ओर ईशारा कर रहा है।

सामाजिक रूप से आपकी प्रतिष्ठा बढ़ेगी जिसके साथ ही परिवार व रिश्तेदारों में भी आपका रूतबा, आपका मान-

सम्मान बढ़ेगा। हालांकि पिता या फिर पिता समान किसी व्यक्ति के साथ आपके मतभेद बढ़ सकते हैं लेकिन समय के साथ मामला शांत भी हो जाएगा। कुंटुंब स्थान के स्वामी शुक्र मित्र राशि में हैं जिस कारण परिवार की पूरी सपोर्ट आपको मिलने के आसार हैं। चौथा स्थान जिसे सुख व माता का स्थान भी कहते हैं इसमें पंचग्रही योग बन रहा है। सुख भाव के स्वामी गुरु जहां यहां पर हंस महायोग बना रहे हैं वहीं सूर्य और बुध यहां बुधादित्य योग। गुरु, बुध, सूर्य, शनि और केतु सब चौथे स्थान में एक साथ हैं जो कि आपके जीवन में सुख सुविधाओं में वृद्धि और परिवार में भी सुख शांति रहने की संभावनाएं जता रहे हैं। पराक्रम के स्वामी मंगल अपने स्थान पर ही विराजमान हैं जो कि संकेत कर रहे हैं कि आप पर आश्रित अपने छोटे भाई-बहनों को भी आप अपना प्यार दे पाएंगें।

पंचम भाव के स्वामी शनि वर्ष के शुरुआती कुछ समय चतुर्थ स्थान में रहने के पश्चात यहीं पर आ रहे हैं जो कि आपके लिये काफी अच्छे संकेत कर रहे हैं। विशेषकर परिवार में किसी नये सदस्य के आने की उम्मीद कर रहे हैं तो आपको अच्छी खबर मिल सकती है। परिवार में किसी मांगलिक कार्य के योग भी इस दौरान बन रहे हैं। शहनाइयां बज सकती हैं। घर में किलकारी भी गूंज सकती है।

देश भर के जाने-माने ज्योतिषाचार्यों से भी आप इस बारे में परामर्श ले सकते हैं।


मई में हालांकि आपको सावधानी रखने की आवश्यकता रहेगी। विशेषकर विवाहित जातक अपने रिश्ते को लेकर चिंतित रह सकते हैं। जो जातक संतान प्राप्ति की कामना रख रहे हैं उन्हें भी अतिरिक्त सावधानी रखने की आवश्यकता रहेगी। वक्री शनि आपको हानि पंहुचा सकते हैं। हालांकि गुरु भी वक्री होंगे जिन्हें शुभ माना जाता है लेकिन उनका प्रभाव बहुत कम समय तक रहेगा। इसलिये इस समय थोड़ा सचेत रहना ही आपके लिये लाभकारी रहेगा।

30 जून को वक्री अवस्था में गुरु के पुन: सुख भाव में आने पर घर-परिवार को लेकर जो चीजें अधूरी रह गई थी उनके पूरे होने के आसार हैं। नये घर में प्रवेश कर सकते हैं जिससे पूरे परिवार में खुशी का माहौल बने रहने की उम्मीद कर सकते हैं।

सितंबर तक का समय आपके पारिवारिक जीवन के लिये उतार-चढ़ाव भरा रहने के आसार हैं। सितंबर में जैसे ही गुरु मार्गी होंगे परिजनों के साथ संबंधों में भी बेहतरी आने लगेगी। बड़े बुजूर्गों की सलाह से आपके मसले हल होते हुए नज़र आएंगें। हालांकि इसी समय राहु-केतु का भी राशि परिवर्तन हो रहा है जिसके प्रभाव से आपके व्यवहार में कुछ बदलाव आ सकते हैं इससे परिजनों व अपने करीबी दोस्तों की नाराजगी भी आपको झेलनी पड़ सकती है। जितना हो सके भावावेश में आने से बचें। केतु का परिवर्तन आपकी राशि से तीसरे स्थान में इसी समय में हो रहा है जो कि आपको अपने छोटे भाई-बहनों के साथ मतभेदों से भी बचने के संकेत कर रहे हैं। इस समय परिजनों के साथ किसी यात्रा की प्लानिंग कर रखी है तो यात्रा के दौरान सावधानी रखने की जरुरत भी आपको रहेगी। सितंबर के अंतिम दिनों में शनि भी मार्गी होजाएंगे जो कि वर्ष के बाकि बचे समय के अच्छा रहने के संकेत कर रहे हैं। नवंबर के उतर्राध में शनि और गुरु पुन: एक साथ होंगे। कुल मिलाकर वार्षिक राशिफल 2020 आपके सुखी पारिवारिक जीवन की कामना कर रहा है।


2020 में प्रेम करियर स्वास्थ्य एवं आर्थिक समस्याओं के समाधान के लिये एस्ट्रोयोगी पर प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों

से परामर्श करें।

©2020 by maakalivastujyotish.